>>>>

कालसर्प पूजा - पंडित. देव कुमार शर्माजी के द्वारा

kalsarp01
kalsarp02

पंडितजी के बारेमे

पंडित . देव कुमार शर्माजी त्र्यंबकेश्वर मे रहते है । पंडित संपूर्ण पूजाविधी शास्त्रोक्त और वेदोक्त तरीकेसे करवा लेते है ।ब्रम्ह, विष्णु, महेश विशेष रूप से एक ही स्थान पर है ,इसीलिए एक महत्वपूर्ण रस्म है।



More Info



त्र्यंबकेश्वर मे पूजाये

kalsarp04

कालसर्प शांती


कालसर्प योग का विचार करनेसे पहले राहू केतू का विचार करना आवश्यक है| राहू सर्प का मुख माना गया है| तो केतू को पुँछ मानी जाती है| इस दोग्रहोंकें कारण कालसर्प ..

More Info

kalsarp06

त्रिपिंडी पूजा


त्रिपिंडी श्राद्ध में ब्रह्मा, विष्णू और महेश इनकी प्रतिमाए उनका प्राण प्रतिष्ठा पूर्वक पूजन किया जाता है| हमे सताने वाला, परेशान करने वाला पिशाच्च योनिप्राप्त जो जीवात्मा रहता है उसका नाम एवं गोत्र हमे द्न्यात नही होने से उसके लिए "अनादिष्ट गोत्र" का शब्दप्रयोग किया जाता है| .

More Info

kalsarp07

पितृ दोष


पितरों की प्रसन्ता‍ के लिये धर्म के नियमानुसार हविष्ययुक्त पिंड प्रदान आदि कर्म करना ही श्राध्द कहलाता है। श्राध्द करने से पितरों कों संतुष्टि मिलती है और वे सदा प्रसन्न रहते हैं और वे श्राध्द कर्ता को दीर्घायू प्रसिध्दि, तेज स्त्री पशु एवं निरागता प्रदान करते है।...

More Info


पूजा स्थल

राजेश्वरी बिल्डींग , टेलिफोन एक्सचेंज के पास ,
त्र्यंबकेश्वर - नाशिक

संपर्क करे

+91 9890391437, +91 8605659769
0253-2621153

ई-मेल

panditdevkumarsharma@gmail.com



© 2017 kaalsarppuja.in. All rights reserved. Site by: DotPhi