>>>>

कालसर्प पूजा

त्र्यंबकेश्वर कालसर्प पूजा


कालसर्प योग का विचार करनेसे पहले राहू केतू का विचार करना आवश्यक है| राहू सर्प का मुख माना गया है| तो केतू को पुँछ मानी जाती है| इस दोग्रहोंकें कारण कालसर्प योग बनता है| जन्मकुंडली में यह दोनों ग्रहोंकें बीच शुभ ग्रह आ गये तो वह कालसर्प योग का चिन्ह होता है| हिरण्यकश्यपूकी पत्नि सिंहिकासे राहू का जन्म हुआ है| समुद्रमंथनसे प्राप्त हुआ अमृत प्राप्त करने के लिए राहू देव समुहमे जाकर बैठे| वह अमृत प्राशनकरनेहीवाला था तो चंद्र सूर्य ने मोहिनी को इशारा किया|मोहिनी रूप विष्णूने तत्काल राहू का शिरच्छेद किया| अत: उसके शरीरके पूर्व भाग को राहूऔर उत्तर भाग को केतू कहने लगे| तभी नवग्रह में उन्हे स्थान प्राप्त हुआ|

राहू के वजहसे ही कालसर्प योग बन सकता है|वैदिक कर्मकांड में राहू को आदि देवता काल माना गया है, और प्रत्याधिदेवता सर्प को माना गया है|इसलिए राहू दूषित होनेसे कालसर्प योग बनता है| राहू यदी शुभास्थिती में हो तो भाग्यदायक और पराक्रमी होता है| उनका प्रभुत्व मंत्र तंत्र अघोरीविद्याओके साथ होता है| यदी राहू दुषित हो तो स्मृतिनाश, अपकिर्ती पिशाच्चबाधा संतति को कष्ट अपाय करता है|अनेक कार्योंमे विलंब अथवासफलता मिल सकती है| हर कार्य आसान होने के लिए वैदिक कालसर्प योग शांति विधान करना चाहिए|

कभी कबार कुछ नवग्रह राहु केतू की दुसरी ओर या फिर उनके दायरेसे बाहर भी होते है | इस स्थिति को अर्ध कालसर्प योग कहते है |

जन्म कुंडली मे कालसर्प योग आने से आपको जीवन मे बहुत समस्याओं का सामना करना पडता है |
हम बहुत पैसा कमाते है पर न जाने वह किस तरह चला जाता है और हमेशा धन का अभाव बना रहता है |
इस योग के कारण आपके मन में बूरे खयाल आते है और आपका मन घबरा जाता है |
यह योग आपकी पढाई में बाधा डालता है और अपको शादी करने मे भी समस्या होती है |
कालसर्प योग आपके व्यवसाय में भी बाधा डालता है |
पति पत्नी के बिच मतभेद और झगडा होना यह भी कलसर्प योग के कारन होता है |

इस लिये उपर दिये गये सभी समस्याओं से छुटकारा पाने के लिये कालसर्प शांती पू्जा करना जरूरी है |

कालसर्प शांती पूजा मे सर्प देव मुख्य देवता होते है |
आपकी इच्छा नुसार आप सर्प देव कि छोटी सोने कि प्रतिमा ला कर उसकी पूजा कर के पंडितजी को दान कर सकते है या फिर कोइ और दान कर सकते है |


महत्वपूर्ण सुचना :
कालसर्प शांती पुजा 1 दिन मे संपन्न की जाती है |
पूजा के लिए पुरुष नये वस्त्र जैसे कुर्ता-पजामा, धोती-कुर्ता स्त्रियों के लिए साडी-ब्लाऊज एवं पंजाबी ड्रेस आदि वस्त्र लाना जरुरी है |
पूजा में बैंठने वाले सभी भक्त काले और हरे रंग के कपडे ना पहने

त्र्यंबकेश्वर में रहने की सुविधा
त्र्यंबकेश्वर में रहने की सुविधा एकदम आरामदायक और सुविधापूर्ण है |
एसी/नाँन एसी होटल, अलग कमरे और धर्मशाला यात्रीयों के लिये उपलब्ध है |
यदि पूजा के कुछ दिन पहले सूचित किया जाये तो हम आपके लिये आपके रहने की सुविधा का प्रबन्ध कर सकते है|
कृपया यहॉंपर ठहरनेके लिए रूम उपलब्ध होने हेतू आयडेंटी प्रुफ जैसे ड्रायव्हिंग लायसन, पॅन कार्ड साथ लाना जरुरी है|

कृपया ध्यान दे : रहने का खर्च पूजा के खर्च से अलग होगा |

+919890391437 , +918605659769

Enquiry Form



कालसर्प के प्रकार :

कालसर्प योग के 12 प्रकार के होते हैं।


kalsarp01

अनंत कालसर्प योग


जब लग्न में राहु और सप्तम भाव में केतु हो और उनके बीच समस्त अन्य ग्रह इनके मध्या मे हो तो अनंत कालसर्प योग बनता है । इस अनंत कालसर्प योग के कारण जातक को जीवन भर मानसिक शांति नहीं मिलती । वह सदैव अशान्त क्षुब्ध परेशान तथा अस्िथर रहता है: बुध्दिहीन हो जता है। मास्ितक संबंधी रोग भी परेशानी पैदा करते है।

kalsarp02

कुलिक कालसर्प योग


जब जन्मकुंडली के व्दितीय भाव में राहु और अष्टम भाव में केतू हो तथा समस्त उनके बीच हों, तो यह योग कुलिक कालसर्प योंग कहलाता है।

kalsarp03

वासुकि कालसर्प योग


जब जन्मकुंडली के तीसरे भाव में राहु और नवम भाव में केतु हो और उनके बीच सारे ग्रह हों तो यह योग वासुकि कालसर्प योग कहलाता है।

kalsarp04

शंखपाल कालसर्प योग


जब जन्मकुंडली के चौथे भाव में राहु और दसवे भाव में केतु हो और उनके बीच सारे ग्रह हों तो यह योग शंखपाल कालसर्प योग कहलाता है।

kalsarp05

पद्म कालसर्प योग


जब जन्मकुंडली के पांचवें भाव में राहु और ग्याहरहवें भाव में केतु हो और समस्त ग्रह इनके बीच हों तो यह योग पद्म कालसर्प योग कहलाता है।

kalsarp06

महापद्म कालसर्प योग


जब जन्मकुंडली के छठे भाव में राहु और बारहवें भाव में केतु हो और समस्त ग्रह इनके बीच कैद हों तो यह योग महापद्म कालसर्प योग कहलाता है।

kalsarp07

तक्षक कालसर्प योग


जब जन्मकुंडली के सातवें भाव में राहु और केतु लग्न में हो तथा बाकी के सारे इनकी कैद मे हों तो इनसे बनने वाले योग को तक्षक कालसर्प योग कहते है।

kalsarp08

कर्कोटक कालसर्प योग


जब जन्मकुंडली के अष्टम भाव में राहु और दुसरे भाव में केतु हो और सारे ग्रह इनके मध्य मे अटके हों तो इनसे बनने वाले योग को कर्कोटक कालसर्प योग कहते है।

kalsarp09

शंखनाद कालसर्प योग


जब जन्मकुंडली के नवम भाव में राहु और तीसरे भाव में केतु हो और सारे ग्रह इनके मध्य अटके हों तो इनसे बनने वाले योग को शंखनाद कालसर्प योग कहते है।

kalsarp10

पातक कालसर्प योग


जब जन्मकुंडली के दसवें भाव में राहु और चौथे भाव में केतु हो और सभी सातों ग्रह इनके मध्य मे अटके हों तो यह पातक कालसर्प योग कहलाता है।

kalsarp11

विषाक्तर कालसर्प योग


जब जन्मकुंडली के ग्याहरहवें भाव में राहु और पांचवें भाव में केतु हो और सारे ग्रह इनके मध्य मे अटके हों तो इनसे बनने वाले योग को विषाक्तर कालसर्प योग कहते है।

kalsarp12

शेषनाग कालसर्प योग


जब जन्मकुंडली के बारहवें भाव में राहु और छठे भाव में केतु हो और सारे ग्रह इनके मध्य मे अटके हों तो इनसे बनने वाले योग को शेषनाग कालसर्प योग कहते है।


पूजा स्थल

राजेश्वरी बिल्डींग , टेलिफोन एक्सचेंज के पास ,
त्र्यंबकेश्वर - नाशिक

संपर्क करे

+91 9890391437, +91 8605659769
0253-2621153

ई-मेल

panditdevkumarsharma@gmail.com



© 2017 kaalsarppuja.in. All rights reserved. Site by: DotPhi